Home / Kanpur City / Bribe Case, Inspector Kalyanpur And Constable Suspended – घूसखोरी में इंस्पेक्टर कल्याणपुर और सिपाही निलंबित, बीयर शॉप मालिक को थाने से छोड़ने के लिए वसूले थे एक लाख रुपये
Bribe Case, Inspector Kalyanpur And Constable Suspended – घूसखोरी में इंस्पेक्टर कल्याणपुर और सिपाही निलंबित, बीयर शॉप मालिक को थाने से छोड़ने के लिए वसूले थे एक लाख रुपये

Bribe Case, Inspector Kalyanpur And Constable Suspended – घूसखोरी में इंस्पेक्टर कल्याणपुर और सिपाही निलंबित, बीयर शॉप मालिक को थाने से छोड़ने के लिए वसूले थे एक लाख रुपये

Loading...
Loading...

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कानपुर
Published by: शिखा पांडेय
Updated Thu, 08 Apr 2021 12:01 PM IST

सार

– पुलिस कमिश्नर असीम अरुण के निर्देश पर हुई कार्रवाई, बैठाई विभागीय जांच भी

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर
– फोटो : सोशल मीडिया

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

विस्तार

कानपुर में घूसखोरी के मामले में पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने बुधवार रात इंस्पेक्टर कल्याणपुर जनार्दन प्रताप सिंह और सिपाही धीरेंद्र को निलंबित कर दिया। दोनों के खिलाफ विभागीय जांच के भी आदेश दिए हैं। एडीसीपी ट्रैफिक डॉ. अनिल कुमार दोनों की जांच करेंगे। जांच के बाद दोनों पर विभागीय कार्रवाई की जाएगी।

कमिश्नर ने कहा कि यदि पुलिसकर्मी भ्रष्टाचार करता है या अपराधियों से सांठगांठ रखेगा तो उस पर इसी तरह की कार्रवाई होगी। 28 मार्च को पनकी रोड स्थित बीयर शॉप पर आकर टॉप टेन अपराधी भानू ठाकुर ने दुकान मालिक मोनू गौड़ से मारपीट कर उनको लहूलुहान कर दिया था।

कल्याणपुर पुलिस ने मोनू पर ही मुकदमा दर्ज कर हवालात में बंद कर दिया था। डीसीपी वेस्ट से शिकायत के बाद मोनू की तहरीर पर भानू व अन्य आरोपियों पर हत्या के प्रयास समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज हुआ था। दो दिन बाद मोनू की पत्नी ने प्रियंका ने आरोप लगाया था कि मोनू को थाने से छोड़ने के लिए इंस्पेक्टर जनार्दन प्रताप सिंह ने सिपाही धीरेंद्र की मदद से एक लाख रुपये वसूले।

अफसरों से शिकायत के कुछ देर बाद यह रकम प्रियंका को पुलिसकर्मी ने वापस कर दी थी। पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने मामले को संज्ञान में लेकर एडीसीपी पश्चिम अभिषेक अग्रवाल को जांच सौंपी थी। जिसमें दोनों पुलिसकर्मी दोषी पाए गए। लिहाजा तत्काल प्रभाव से इंस्पेक्टर और सिपाही निलंबित किए गए।

जांच में आरोप सही मिलने पर निलंबन की कार्रवाई कर विभागीय जांच के आदेश दिए गए हैं। कोई भी पुलिसकर्मी अगर भ्रष्टाचार करता है या अपराधियों से सांठगांठ रखेगा तो उस पर इसी तरह की कार्रवाई होगी। आरोपी गंभीर हुए तो एफआईआर भी दर्ज होगी। – असीम अरुण, पुलिस कमिश्नर कानपुर


This content is from – Amar Ujala News

About kanpursmartcity

Check Also

Covid 19 Situation In Kanpur, Government And Private Hospital – Corona In Kanpur: कोविड अस्पतालों के बेड दलाल कर रहे ब्लैक, हैलट से लेकर निजी अस्पतालों तक सक्रिय

Covid 19 Situation In Kanpur, Government And Private Hospital – Corona In Kanpur: कोविड अस्पतालों के बेड दलाल कर रहे ब्लैक, हैलट से लेकर निजी अस्पतालों तक सक्रिय

Loading... Loading... न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कानपुर Published by: प्रभापुंज मिश्रा Updated Fri, 16 Apr …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *